उन्नाव कांड : डोली की जगह अर्थी उठाते समय कांपे पीड़िता के भाई के हाथ:उन्नाव कांड

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मृतका को खेत में दफनाने पहुंचे भाई और पिता के आंखों से निकलते आंसूओं को देखकर वहां मौजूद हर किसी की आंखे नम हो गई। कब्र में बेटी और बहन को दफन करने के दौरान पिता और भाई के साथ वहां उपस्थित पूरी भीड़ में दु:ख की लहर दौड़ गई। मंत्री, कमिश्नर, आईजी, डीएम से लेकर सभी लोग पूरी तरह से मौन हो गए और उनके गमो को अपनी तसल्ली से शांत कराते रहे।

कब्र में बहन को दफन करने के बाद पीड़िता के भाई ने कहा कि यह कभी नहीं सोचा था कि डोली उठाने वाले हाथों से अपनी बहन को इस तरह कफन में लपेटकर दफन करना होगा। कहा कि ऐसी पीड़ा से पूरा परिवार टूट गया है। बोला दिल्ली के अस्पताल में आईसीयू पर लेटी बहन ने जब मेरे कानों पर कहा कि भईया अब अंतिम घड़ी आ गई है और तुम मेरे आरोपियों को छोड़ना नहीं तो मेरी रूह कांप उठी। उसने कहा कि शासन प्रशासन से जो मांगों को पूरा करने की बात कही जा रही है। उनके पूरे परिवार से इस पर कोई आवाज नहीं उठाई गई।

उसने कहा कि उन्हें आर्थिक मदद, नौकरी, और सुरक्षा जैसी मांगों से काफी बढ़कर मेरी बहन की जिंदगी थी। जिसे इन दरिंदो ने मिटा दिया। कहा कि जब तक मेरी बहन के आरोपियों को फांसी नहीं हो जाती है तब तक उसकी बहन की आत्मा को शांति नहीं मिलेगी। भाई के जुंबा से निकलते इन अल्फाजों को सुनकर वहां सैकड़ों की संख्या में उपस्थित लोगों के चेहरे मायूस हो गए। सभी ने उसका ढांढ़स बंधाते हुए आरोपी को उचित सजा मिलने की उम्मीद जताई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

सावरकर के विचारों के खिलाफ है नागकिरता संशोधन कानून

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सावरकर को लेकर उठे विवाद के बीच केंद्र सरकार ...

मुख्यमंत्री बघेल 12 को जशपुर महोत्सव में होंगे शामिल

रायपुर,। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 12 दिसंबर को जशपुर महोत्सव में शामिल होंगे। बघेल 12 दिसंबर ...

कलाकारों, लेखकों ने की नागरिकता विधेयक वापस लेने की मांग

नई दिल्ली। लगभग 600 कलाकारों, लेखकों, विद्वानों, पूर्व न्यायाधीशों और पूर्व नौकरशाहों ने नागरिकता संशोधन ...